एन्ग्झायटी(Anxiety)डिप्रेशन’ बढ़ रहा है; जानिए लक्षण और समाधान

एन्ग्झायटी डिप्रेशनबढ़ रहा है; जानिए लक्षण और टिप्स! 

World Health Organization द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, 2020 तक ‘Anxiety डिप्रेशनदुनिया की दूसरी सबसे बड़ी बीमारी होगी। पिछले दशक की तुलना में अब यह बीमारी 18 प्रतिशत बढ़ गई है। लगभग 25% किशोर उम्र  इस बीमारी की चपेट में आ रहे  हैं।

 

World Health Organization ने अपनी आशंका व्यक्त की है कि 2020 तक बढती प्रतियोगिता, बेरोजगारी और शिक्षा के चल रहे मुकाबलों में और वृद्धि होगी। विशेषकर महिला और युवती के मामले में हालत बढ़ रही है। हमें इस बीमारी के बारे में जानने की जरूरत है और इसे कैसे दूर किया जाए

 

एंजियोजनी डिप्रेशन ’क्या है? : हर किसी की उम्मीदें बढ़ गयी  हैं, जिसे पूरा करने के लिए हर कोई लगातार प्रयास कर रहा  हैं,अगर इसी बिच कुछ बुरा हो जाये  जिससे मन परेशान  होता है। यदि आपके पास असुविधा और अपेक्षाएं नहीं हैं, जो एक सीमा से अधिक हो गई हैं, तो आप इसेएंजियोटेक्निक डिप्रेशनकह सकते हैं।

 

बीमारी के लक्षण क्या हैं?

 

इस बीमारी के कारण शरीर और मानसिक संरचना में कई बदलाव होते हैं। यह एक बीमारी  जो पूरी तरह से ठीक हो सकती  है  तो  इसके कुछ लक्षण यहाँ दिए है ।

 

  •   नींद ठीक से नहीं आना
  •   रात को बेचैनी महसूस करना
  •   भूख के स्तर में कमी।
  •    बेचैन होने लगाना, बार बार  हाथों और पैरों से पसीना आना
  •   आत्मविश्वास में कमी आना
  •   थकान और सुस्ती महसूस होना।
  •   एकाग्रता में कमी।

 

रोग का समाधान क्या है?

 

एंजियोजनी डिप्रेशनसे छुटकारा पाना संभव है।  इस लिए जानते है कुछ उपाय ? 

 

  •  खुलकर बात करें।
  •  नियमित व्यायाम करें।
  • अपने अन्दर जो art है उसे पहचानिए
  • नकारात्मकता से दूर रहें।
  • अपने काम, स्थिति की समीक्षा करें
  • रात भर सोचके मत जागो
  •  प्राकृतिक चिकित्सा पर भी विचार करें।
  • गलतियोंपे रोते बैठना छोड़ दे

 

 *Note:- collective information ,Only for info  purpose

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bitnami