व्यापार ही क्यों करना है? Why do business?-storykatta

व्यापार ही क्यों करना है? Why do business?

A beautiful example of how a business good Among the Jobs and Business.

नौकरी और व्यापार के बीच व्यापार कितना अच्छा है, एक सुंदर उदाहरण

एक प्रतिष्ठित कंपनी के बाहर एक प्रसिद्ध समोसे की दुकान थी। उस कंपनी के कर्मचारी लंच के लिए इस दुकान पर आते थे। और स्वादिष्ट ,चटकदार समोसे खाते। उस कंपनी के ज्यादातर लोग समोसा वाले से परिचित थे ।

 

एक दिन ऐसे ही कम्पनी के मैनेजर उसका  मजाक उड़ाते बोले ,” मेरे मित्र, आप अपनी समोसा की दुकान बहुत अच्छी तरह से चला रहे हैं।लेकिन क्या आपको नहीं लगता कि आपका सबसे अच्छा समय और बुद्धि इसमें में बर्बाद हो रही है? जरा सोचो,अगर आप भी मेरी तरह, यदि किसी कंपनी में काम किया होता तो आप कहां तक प्रगति कर सकते थे ?शायद आप भी मेरी तरह एक मैनेजर होते ।

 

इस सवाल पर थोड़ा सोचने के बाद शांति से हंसकर समोसे वाला ने उत्तर दिया ,”मेरा यह काम आपके काम से कई गुना बेहतर है।10 साल पहले, मैं अपने सिर पर टोकरी लेकर हर घर जाकर समोसे बेचता था। तब आपको पहले नौकरी मिल गई होगी । १० साल पहले समोसे बेचकर मुझे १००० महीना मिलता था, तभी आपको महीने को १०००० सैलरी मिलता होगा।

१० सालों मैं दोनों का अलग अलग सफर रहा । इन १० साल दोनों ने बहुत मेहनत की ,तब आप सुपरवायझर की पोस्ट से मैनेजर की पोस्ट तक पहुंचे। तो मेरा टोकरी से एक दुकान तक । आज आपका वेतन 50 हजार रुपये है ,लेकिन मैं महीने में दो लाख रुपए कमाता हूं।

“मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मेरा काम अच्छा है,” समोसा वाले ने कहा। मैं सहमत हूं कि मुझे अधिक श्रम करना होगा। चलिए थोड़ा आगे का सोचते हैं। मैं यह काम अपनी अगली पीढ़ी के लिए कर रहा हूं। मैंने यह काम बहुत कम पूंजी से शुरू किया।

आमदनी भी कम ही थी । लेकिन मेरे बच्चों को ऐसा नहीं करना पड़ेगा । ये जो दुकान है , उन्हें मिलेगा । यह बढ़ता कारोबार इसे और आगे बढ़ाएंगे। ”.मॅनेजर साहेब ये सब सुन रहे थे.

 

इसके विपरीत, आपका बेटा आपके पद पे direct जा नहीं सकता ।उसे फिर से स्टार्ट से शुरुवात करनी पड़ेगी। और उसकी मेहनत का फायदा इस कंपनी के मालिक के बच्चों को मिलेगा।आपका बेटा अपने जीवन के अंतिम चरण में केवल दो या अधिक कदम आपसे आगे जायेगा , तो मेरा बेटा मेरे बहुत आगे निकल जायेगा।तो साहब आप ही बताओ ,”किसकी समय और चतुराई बर्बाद हो रही है ?”.साहब कुछ न बोले ,वहा से निकल पड़े ।

 

यह प्रसंग हमें सिखाता है, कि व्यापार क्यों किया जाना चाहिए।आपके बाद भी आप ,आपकी विरासत केवल अपने बच्चों को ही नहीं ,समुदाय में काम करने वाले लोग और ऐसे कितने ही घटकों को होता है।

1892 में एडिसन द्वारा शुरू किया जनरल इलेक्ट्रिक कंपनी। एडीसन के बाद भी आज काम कर रहा है।कोई संकल्पन , विचार या संगठन यह जन्म देने वाले व्यक्ति की तुलना में बहुत बड़े है।यदि इसे जन्म देने वाला मस्तिष्क नष्ट भी जाये फिर भी यह निरंतर बढ़ता रहता है। प्रारंभिक चरण में हमें केवल इसकी देखभाल करने की आवश्यकता है।

 

केवल चुटकुले के बिना ऐसे पोस्ट शेयर करें, ताकि नए बच्चों को इसका फायदा हो …

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bitnami